अटल एक युगपुरुष

अटल एक युगपुरुष

अटल एक युगपुरुष

हो ज्ञान की महिमा या
नव निर्माण की पराकाष्ठा
वह रुकना नहीं जानता था
आगे बढ़ना धर्म मानता था
🌹🌿🌹

अटल वो अटल था मंजिलों पर
अडिग सदा पाँओं के निशान पर
मुश्किल डगर को हमसफर बना
कांटों पर चला फूल समझकर
🌹🌿🌹

युगपुरुष सी देह अटल
आज हमारे बीच नहीं
निडर सफल स्पष्ट निश्छल
छवि हमें अलविदा कह गई
🌹🌿🌹

नईं राह के सृजनकर्ता तुम
हार जीत से निर्भीक निडर
कालखण्ड के मस्तक पर
विभूति दृष्टिगोचर अजर अमर
🌹🌿🌹

कमल खिला पथ प्रदर्शक बना
विजय पथ पर निशाँ अंकित किया
भारत मां का वीर सपूत देखो
मातृभूमि की गोद में विश्राम किया
🌹🌿🌹

माटी का लाल अटल
माटी से कर गया मिलन
मन द्रवित भीगे नयनों से
करते तुम्हें शत शत नमन
🌹🌿🌹

उस भारत रत्न अटल जी को
हम श्रद्धा सुमन चढ़ाते हैं
उनके पद चिन्हों पर चलकर बढे
संकल्प यही दोहराते हैं

🌹🌿🌹

डॉ अलका अरोडा
प्रो० देहरादून

कविता और कहानी