अतिसुक्ष्मवाद

अतिसुक्ष्मवाद

अतिसुक्ष्मवाद परिचित भाषा में कहूँ तो मिनिम्लिजम | यदि कोरोना काल में आपका परिचय इस शब्द से नहीं हुआ तो आप शायद चटृ| के नीचे रह रहे है | आज बड़ीबड़ी विश्वकल्याण संस्थाएँ, विचारक मिनिमलिस्टिक जीवन शैली को भविष्य की संख्या दे रही है | आखिर क्या है मिनिम्लिजम ?? इस नए युग के आंदोलनों ने अतिसुक्ष्म जीवनशैली को ऐसे उपकरण की तरह परिभाषित किया है जो भौतिकता के ईद गिर्द  सिमटे जीवन से वास्तविक स्वतंत्रता खोजने में सहायता करता है | याद किजिए किसी समय आपका भोजन रेस्टोरेंट्स, कामवाली बाइयो के बिना असंभव थावही भोजन आज आप स्वयं पका रहे हैं | सोचिए छुट्टी के उन अवसरों के बारे में जिनकी परिकल्पना आप बिना माॲल, फिल्म आदि के बिना नहीं कर सकते हैं, आज वही छुट्टीयो के दिन आप खुशी संग परिवार के साथ बिता रहे हैं |

इस जीवनशैली ने ना केवल हमें हमारी सीमित जरुरतों का एहसास करवाया है पर हमें हमारी क्षमताओं से अवगत भी करवाया है | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देशवासियों को संबोधित करते हुए उनसे सरल आत्मनिर्भर जीवन व्यतीत करने निवेदन भी किया थाकई लोग अतिसुक्ष्म जीवनशैली को भौतिक क्रांति का विरोधी मानते हैं परंतु मिनिमलिस्टिक जीवनशैली ? ? असल में केवल उन चीजों को खरीदने और करने के बारे में है, जिनकी आपको सच में  आवश्यकता है अनावश्यक वस्तुओं को खत्म करने के बारे में है | एसी जीवनशैली कंजूस होने के बारे में नहीं है, परंतु अपनी प्राथमिकताओं के बारे में चयनात्मक  होने के बारे में अधिक है | एसी जीवनशैली का मुख्य उद्देश्य सादगी पूर्ण जीवन में आंतरिक स्थिरता और आनंद को खोजना है |

कोरोना काल से पहले जिंदगी की तेज रफ्तार मे यदाकदा ही आपने अपने परिवार के साथ इतना समय बिताया होगा , अपने शौक पूरे किए होंगे , शायद ही आपने वह बचपन के खेल वापस खेले होंगे, फिर से प्रकति से अपना रिश्ता मजबूत किया होगा | एसी जीवनशैली हमे हमारा समय और ऊर्जा सही स्थानो पर निवेश करने के लिए दिशा देती है | सूक्ष्मवाद वित्तिविवाद के संदर्भ में भी उतनी ही प्रासंगिक है जितना जीवन के विभिन्न पहलुओं में | ऐसी जीवनशैली अपव्यय को नियंत्रित करती है तथा संसाधनों को हमारे लक्ष्य  और भविष्य के लिए उपयोग करने में सहायता करती है | कोरोना ने भले ही कई नकारात्मक प्रभाव छोड़ है परंतु कोरोना वायरस ने हमें विवश किया है हमारे जीवन का अवलोकन करने के लिए | खुद को पहचानने के लिए, अपनी आदतें खंगालने के लिए अवलोकन और अनुसरण अतिसुक्ष्मवादी जीवनशैली का किजिए ||

निहारिका, कक्षा 7

कविता और कहानी