सच बोलना  सख्त मना है

सच बोलना सख्त मना है

यह रोशनी

जिसे तुम अंधेरे के खिलाफ

 ‘जागृति’

कह रहे हो

वक्त के पिछडेपन को

दूर करने की रीत है

         भीतर का अंधेरा

          अभी डरा रहा है

           रह-रहकर उजाले मे

           उभरती परछाइयां …

           खुली हुई लाशे बन जाती हैं

           गाती गांधी का गीत हैं

           देखो,

           सूरज  का अंधेरा

           कितना घना  है

           यहां , सच बोलना

           सख्त मना है|

डॉक्टर  राहुल

कविता और कहानी