हिंदुस्तान में पुन: सुख-समृद्धि लाना है.

हिंदुस्तान में पुन: सुख-समृद्धि लाना है.

चुनौतियां आती हैं और  चली जाती हैं,
किंतु गहरी छाप छोड़ कर ही जाती हैं.
वैसी ही चुनौती ‘कोरोना का वायरस’है,
जिसनेआदमी की परेशानियां बढ़ाई है.
हरेक चुनौती का एक ही लक्ष्य होता है,
इंसान के धीरज की अग्नि-परीक्षा लेना.
‘लॉकडाउन’ की सफलता को देख कर,
कोरोना ने शुरू किया संक्रमण समेटना.
इंसान के  संयम व सत्प्रयास के सामने,
किसी शत्रु का  बिल्कुल  नहीं चलता है.
यही हाल है अब ‘कोरोना के कहर’ का,
जिसका अंत शीघ्रातिशीघ्र होनेवाला है.
हमलोगों को सदा ही सावधान रहना है,
कोरोना को कभी लौटने ही नहीं देना है.
दृढ़-संकल्प के साथ सामूहिक शक्ति से,
हिंदुस्तान में पुन: सुख-समृद्धि लाना है.

चुनौतियां आती हैं और  चली जाती हैं,
किंतु गहरी छाप छोड़ कर ही जाती हैं.
वैसी ही चुनौती ‘कोरोना का वायरस’है,
जिसनेआदमी की परेशानियां बढ़ाई है.
हरेक चुनौती का एक ही लक्ष्य होता है,
इंसान के धीरज की अग्नि-परीक्षा लेना.
‘लॉकडाउन’ की सफलता को देख कर,
कोरोना ने शुरू किया संक्रमण समेटना.
इंसान के  संयम व सत्प्रयास के सामने,
किसी शत्रु का  बिल्कुल  नहीं चलता है.
यही हाल है अब ‘कोरोना के कहर’ का,
जिसका अंत शीघ्रातिशीघ्र होनेवाला है.
हमलोगों को सदा ही सावधान रहना है,
कोरोना को कभी लौटने ही नहीं देना है.
दृढ़-संकल्प के साथ सामूहिक शक्ति से,
हिंदुस्तान में पुन: सुख-समृद्धि लाना है.
Doctor Sudhir Singh

कविता और कहानी