दैर-ओ-हरम में रहने वाले तू जाने क्या पीर मेरी

दैर-ओ-हरम में रहने वाले तू जाने क्या पीर मेरी

जरा निकल तो दिखलाऊंगा कैसी है तदबीर मेरी

दैर-ओ-हरम में……….

तुझको ढूंढा सहरा-सहरा, तुझको खोजा गली-गली

कहीं मिला ना तू ऐ मालिक पत्थर की सी बूत ही मिली

कैसे हाल सुनाता तुझको ऐ पत्थर दिल ओ रे पीर

तुझसे तो अच्छा है बालक सुनता है तहरीर मेरी

दैर-ओ-हरम में रहने वाले……

तुझसे तो सब माँगा करते देता नही कोई भी नीर

आंखों में सब भरकर आँसू बैठे लगते जैसे फकीर

दैर-ओ-हरम में………….

मैंनें भी तेरी चौखट पे  कितने ही सजदे हैं किये

लेकिन माँग नही रक्खी है तू दे दे तो बैर नहीं

दैर-ओ-हरम में रहने वाले………..

कन्हैया सिंह “कान्हा”

नवादा, छपरा, बिहार

23 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

संकल्प

Sun Jul 7 , 2019
दीपू ज्यादातर विद्यालय में देरी से ही पहुँचता था । देर से आने वाले बच्चों की अलग लाइन बनवाई जाती है तथा उनका नाम भी उनकी कक्षा के अनुसार लिखा जाता है ताकि उनके कक्षाध्यापक उन्हें जान सकें और समझा सकें । उस रजिस्टर में नवीं कक्षा में पढ़ने वाले […]