मेरी माँ

पुनीता शुक्ला

अगर तुम न होती न होते हम
तुम्हारे वजूद से ही बने हैं हम
न होती ये सांसे, न होता ये दिल,
न दिल कि ये धड़कन न होते हम
अगर तुम न होती ——-

अपनी दुवाएं और ये आँचल
आँचल में लिप्त हुआ ये प्यार
न छोड़ देन इसे कभी, विनती करूँ मै बन्राम्बार
अगर तुम न होती ——-

रास्ते कितने कठिन हों, तुम देना सहारा,
तुम्हारे बिना मै हूँ एक बंजारा
मेरे सिर पर रख दो अपने दोनों हाथ
नहीं चाहिए और कुछ इसके बाद
अगर तुम न होती न होते हम
तुम्हारे वजूद से ही बने हैं हम

81 Views

One thought on “मेरी माँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मझधार मे कांग्रेसी नैया !

Sun Jul 7 , 2019
बुधवार को अचानक राहुल गांधी के ट्वीट ने सियासी गलियारे मे हलचल पैदा कर दी । राहुल गांधी के  कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे  के औपचारिक घोषणा ने हालांकि किसी को चौकाया तो नही पर उनके द्वारा ट्वीट किये गए कारणों ने राहुल की जमकर किरकिरी करा दी । लोकसभा […]