लघुकथा- चौकीदार और चोर

रामभरोसे शहर नया-नया आया था।वह एक सड़क से गुजर रहा था। एक सोसायटी के सामने बहुत ही हो हल्ला हो रहा था। काफी भीड़ जमा थी। 

रामभरोसे की भी मामले को जानने की उत्सुकता बढ़ी, वह भीड़ के पास गया और एक आदमी से पूछा, भाई क्या हुआ?

आदमी बोला, कुछ नहीं इस सोसायटी के “चौकीदार” ने “चोर” से साथ मिलकर सारी सोसायटी का चू गाँठ दिया।

रामभरोसे ने गहरी सांस ली और अच्छा कह कर अपनी डगर को हो लिया।

©डॉ. मनोज कुमार “मन”

35 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

'यश त्रिपाठी' को जन्मदिवस की शुभकामनाये एवं आशीर्वाद

Sat Jul 13 , 2019
करली बहुत शैतानी, अब तो स्कूल जाना हैकरके खूब पढ़ाई, दुनियाँ में नाम कमाना है। आज जन्म की तीसरी वर्षगाँठ है। पिता का नाम-       रोहित त्रिपाठीदादा का नाम-       एनजी त्रिपाठी,कवि,लेखक व                          व्यंगकारजन्म           –       देवशयनी एकादशीनिवास         –       नई दिल्ली अनुराधा प्रकाशन , उत्कर्ष मेल परिवार की और से ‘यश’ को आशीर्वाद […]