दिल्लीे का दर्द आइए मिलकर बाँट लें
कविता और कहानी

दिल्लीे का दर्द आइए मिलकर बाँट लें

डॉक्टर सुधीर सिंह दिल्ली का दर्द आइए मिलकर बाँट लें,शांति के लिए वहां  सब सत्प्रयास करें.दंगों का दर्द फिर कभी नहीं उभरे यहां,प्रत्येक हिंदुस्तानीआज दृढ़-संकल्प लें.सनेेह-सहयोग,सद्भावना और क्ष्रद्धा से;अमन-चैन, शांति का प्रादुर्भाव होता है.भाईचारे का…

दिल्ली का दर्द , इस्लामिक धरना, आतंक और भय
सभी रचनायें

दिल्ली का दर्द , इस्लामिक धरना, आतंक और भय

दिल्ली के शाहीन बाग में दिल्ली के कौम  ने दंगाई सपोलो को दूध पिलाया और आज  उन्हीं सपोलो ने जहरीले सांप के रूप में  दिल्लीवालो को उन्हीं के घर में डसना शुरू किया है । …

डोभाल ने हिंसा ग्रस्त इलाकों का दौरा किया
नई दिल्ली समाचार

डोभाल ने हिंसा ग्रस्त इलाकों का दौरा किया

नई दिल्ली: उत्तर पूर्वी दिल्ली में हो रही हिंसा को लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल ने मंगलवार रात पुलिस के कमिश्नर अमूल्य पटनायक के साथ उन इलाकों का दौरा किया, जहां पर हिंसा भड़की…

दिल्ली हिंसा के दोषियों कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए : कांग्रेस
नई दिल्ली समाचार

दिल्ली हिंसा के दोषियों कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए : कांग्रेस

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि राजधानी दिल्ली में बेहिसाब और अंधाधुंध हिंसा, आगजनी, पत्थरराव और हत्या की घटनाओं ने देश का सीना…

लव आजकल
सभी रचनायें साहित्य

लव आजकल

कविता मल्होत्रा (स्तंभकार उत्कर्ष मेल) यदि किसी बच्चे को जन्म के तुरँत बाद केवल ऊपरी ख़ुराक पर किसी हिंसक व्यक्ति के सान्निध्य में पाला जाए तो उसका व्यक्तित्व कैसा होगा?  बिन माँ के बच्चे जैसा…

रँग भेद  (एक कथालेख)
कविता और कहानी

रँग भेद (एक कथालेख)

गाँ।व की पगडंडी-उस पर चलती हुई मैं।दूर एक पतली सी नदी बहती है जो पथरीली जमीन से होती हुई एक मैदान में पहुँचती है ।जलधारा कभी बहुत पतली हो जाती है और वर्षा का सहारा…

अनुभव
Special Article

अनुभव

वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती सविता चडढा की कलम से उनका नाम डी डी त्रिपाठी अर्थात धर्म ध्वज त्रिपाठी था। वे रायबरेली के विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे । पता नहीं कहीं उन्होंने मेरी एक  कहानी किसी पत्रिका…

विश्व रेडियो दिवस पर विशेष
कविता और कहानी

विश्व रेडियो दिवस पर विशेष

यशपाल सिंह रेडियो दिवस के इस अवसर पर जब मैं पिछले 50-55 साल का रेडियो का इतिहास याद करता हूं तो बचपन से लेकर आज तक रेडियो के कई दौर याद आते हैं । गांव…

सुख
कविता और कहानी

सुख

        घर के बाहर बारिश की झड़ी लगी हुई थी और अन्दर सीमा और रमेश चाय के साथ पकौड़े खाने का आनंद ले रहे थे । बारिश में ज्यादातर लोग चाय पकौड़े का आनंद लेते…