गरीब-मजदूर पर बड़ी चोट पड़ी : मन की बात (पीएम)
Special Article नई दिल्ली सभी रचनायें समाचार

गरीब-मजदूर पर बड़ी चोट पड़ी : मन की बात (पीएम)

मन की बात: देश में जानलेवा कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 'मन की बात' की. पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस कम फैला…

जीत उसकी …हार किसकी…. ?
Special Article

जीत उसकी …हार किसकी…. ?

मनमोहन शर्मा 'शरण' जब भारत में कोरोना महामारी का पहला मरीज संक्रमित पाया गया तब हमने चैकसी बरतनी शुरू कर दी थी, ऐसा हमें बताया गया । धीरे धीरे संख्या 50 / 100 तक पहुँची…

पुस्तक समीक्षा  मंज़र गवाह हैं
कविता और कहानी सभी रचनायें साहित्य

पुस्तक समीक्षा मंज़र गवाह हैं

समीक्षक : मुकेश पोपली दुनिया में अनेक तरह के मंज़र हम देखा करते हैं।  कुछ मंज़र ऐसे होते हैं जो हम कभी भी दुबारा नहीं देखना चाहते।  कुछ ऐसे भी होते हैं जिन्हें हम बार-बार…

समस्याएँ –लाँकडाउन में मजदूरों की।
Special Article सभी रचनायें साहित्य

समस्याएँ –लाँकडाउन में मजदूरों की।

अभी कुछदिनों पूर्व तक प्रथम लॉकडाउन के दौरान देश में अचानक बढ़ती कोरोना संक्रमण की संख्या के लिए देशवासियों , नेताओं ,पत्रकारों  मीडिया और अन्य उन सभीसामान्य लोगों के द्वारा जो  लॉक डाउन के पश्चात…

कोरोना भगवान की जय ?
Special Article साहित्य

कोरोना भगवान की जय ?

यशपाल सिंह प्राचीन कथा है कि एक था हिरणाकश्यप। शक्तिशाली था । राजा था। अमर होना चाहता था, जैसे कोई भी राजा होना चाहेगा । ईश्वर की स्तुति की। ईश्वर प्रकट हुए मगर उन्होंने कहा…

विडम्बना
कविता और कहानी

विडम्बना

नहीं सुनना था वो सुनते रहे हैं। हम अपना सर सदा धुनते रहे हैं।। जो पिस्सू की तरह खूँ चूसते हैं। उन्हें ही आजतक चुनते रहे हैं।। मकां बन जाए, रोटी भी मिलेगी। जन्म से…

यथा सत्य
कविता और कहानी

यथा सत्य

चाहे जो हो सदी है प्रमाणित यही, आस्तीनों में ही साँप पलते रहे। खून भी दूध भी सब पिया है मगर, फिर भी वो तो जहर ही उगलते रहे।। मंथरा थी कुटिल, कैकेई कोमल हृदय,…

वो , कोरोना और मैं
नई दिल्ली साहित्य

वो , कोरोना और मैं

मेरी ड्यूटी राजकीय अस्पताल में थी | यहां दिनोदिन कोरोना के नये मरीज आ रहे थे |बहुत सारे यहाँ से ठीक होकर भी चले गये | एक शाम को ड्यूटी समाप्त करके घर जाने ही…

आँसू जो तेज़ाब बन गये
Special Article नई दिल्ली

आँसू जो तेज़ाब बन गये

प्रवासी नहीं,ये भारतवासी हैं,सैंकड़ों हजारों किलोमीटर दूर पैदल चलने को मजबूर हैं,इन्हीं को आप राष्ट्र निर्माता कहते हैं,भाग्य विधाता कहते हैं,यही तो आपके मतदाता हैं, जिन्होंने आप को सत्ता तक पहुंचाया है, यही हैं वो,जिनके…

मुसाफिर हूँ यारों
Special Article

मुसाफिर हूँ यारों

लगातार मजदूरों के पलायन की बातें सुन सुनकर और टीवी, व्हाट्सएप जैसे बहुत से माध्यमों के द्वारा बड़ी ही दुखदाई फोटो देख-देख कर मन बहुत ज्यादा व्यथित हो रहा था।सोच रहा था क्यों ना कुछ…