मानसिक रोगी हो रहे हैं लोग।
Special Article

मानसिक रोगी हो रहे हैं लोग।

लॉक डाउन खुलने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। ऐसा लगता है कि जनजीवन सामान्य हो गया है। सड़कों पर दौड़ती हुई गाड़ियाँ  पब्लिक ट्राँसपोर्ट से लेकर प्राइवेट दुपहिए चौपहिए वाहनोऔर छोटे, मध्यम कोटि के शहरों, …

इमरती बड़ी चुलबुली… (बाल-कविता )
कविता और कहानी

इमरती बड़ी चुलबुली… (बाल-कविता )

इमरती है बड़ी चुलबुली सोनपपड़ी अकड़ी अकड़ी कलाकंद दे रहा आनंद बरफी बिफरे करे फंद रसगुल्ला कर रहे हल्ला लड्डू ने झाड़ा है पल्ला मक्खनबड़ा रहते हैं मौन खीरमोहन की चली पौन जलेबी रस में…

अन्धेरे चौराहे पर अन्धा कुआँ
Special Article

अन्धेरे चौराहे पर अन्धा कुआँ

आज सच में हमारे देश की परिस्थिति कुछ ऐसी ही हो गई है,किसी को कुछ समझ ही नहीं आ रहा कि सही दिशा में,सही विकास की राह पर कैसे आगे बढ़ा जाये। हर कोई अंधेरे…

नेहरू जयंती विशेष – आधुनिक भारत के सक्रिय राजनेता  !
Special Article

नेहरू जयंती विशेष – आधुनिक भारत के सक्रिय राजनेता !

            जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को ब्रिटिश शासन काल के भारत में इलाहाबाद बदला हुआ नाम प्रयागराज  में हुआ था । जवाहर के पिता मोतीलाल नेहरू एक धनी बैरिस्टर जो कश्मीरी पण्डित…

अतिसुक्ष्मवाद
कविता और कहानी

अतिसुक्ष्मवाद

अतिसुक्ष्मवाद परिचित भाषा में कहूँ तो मिनिम्लिजम | यदि कोरोना काल में आपका परिचय इस शब्द से नहीं हुआ तो आप शायद चटृ|न के नीचे रह रहे है | आज बड़ी – बड़ी विश्वकल्याण संस्थाएँ,…

दिव्य दृष्टि के दीप जलाएँ
कविता और कहानी

दिव्य दृष्टि के दीप जलाएँ

कविता मल्होत्रा बाल दिवस और दीपोत्सव, एक ही दिन आने वाले, आत्मा को आनँदित करते दोनों उत्सव, भारत के प्रत्येक नागरिक को, दोहरी भूमिका निभाने के लिए, सत्यम शिवम् सुँदरम की भावना के प्रति फिर…

आखिर क्यों बदल रहे हैं मनोभाव और टूट रहे परिवार?
कविता और कहानी

आखिर क्यों बदल रहे हैं मनोभाव और टूट रहे परिवार?

भौतिकवादी युग में एक-दूसरे की सुख-सुविधाओं की प्रतिस्पर्धा ने मन के रिश्तों को झुलसा दिया है. कच्चे से पक्के होते घरों की ऊँची दीवारों ने आपसी वार्तालाप को लुप्त कर दिया है. पत्थर होते हर…

ज़िन्दगी के रंग
कविता और कहानी

ज़िन्दगी के रंग

ज़िन्दगी एक पहेली सी लगती है, दुखो की छाव एक सहेली सी लगती है । हम तो बैठे थे इक आशा की किरण थामे पर अब आशा करना एक नादानी सी लगती है । ज़ख्म…

सत्याग्रह के सही मायने !
Special Article

सत्याग्रह के सही मायने !

आज के समाज में  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचार निसंदेह प्रासंगिक है । जिस सत्य अहिंसा और सद्भाव की बात राष्ट्रपिता गांधी करते थे वो आज के वर्तमान समय में लालच लाचारी और भ्रष्टाचार…

“बैंक मैनेजर का चरित्र”
कविता और कहानी

“बैंक मैनेजर का चरित्र”

पंजाब नेशनल बैंक के चीफ मैनेजर बरियार साहब अनुशासन के मामले में कोई, किसी प्रकार से समझौता नही कर सकते थे या नहीं करते थे।अनुशासन के पक्के होने के कारण पूरे राज्य के सभी बैंक…