हर गली में एक निर्भया है
कविता और कहानी

हर गली में एक निर्भया है

कितना मुश्किल है इस दुनिया में औरत हो पाना कदम कदम पे परखे जाना जाना अपने आप को पवित्र दिखाना। यह परख, यह परीक्षा जो कभी खत्म नहीं होती।  क्यों एक बलात्कार में सिर्फ औरत…

प्रवासी दुनिया
कविता और कहानी

प्रवासी दुनिया

समुंदर का नीलापन आकाश का नीलापन उड़ रहे क्रेन पक्षी एक नया रंग दे रहे प्रकृति को। सुंदरता दिन को दे रही  सौंदर्यबोध रात में ले रहा समुंदर करवटे लहरों की। तारों का आँचल ओढ़े…

मीडिया और महिला
Special Article

मीडिया और महिला

इस तथ्य से कोई इनकार नहीं करता है कि भारतीय प्रेस में महिलाओं की बढ़ती उपस्थिति पिछले एक दशक में पहले से कहीं अधिक स्पष्ट हो गई है। उन्हें हर जगह स्पॉट किया जाता है…

मुखर राजनीति के महानायकों के लायक नहीं माहौल  !
Special Article

मुखर राजनीति के महानायकों के लायक नहीं माहौल !

बिहार राजनीति में उठापटक ,बीते दस तारीख की देर रात्रि तब समाप्त हो गया जब बिहार विधानसभा चुनाव के सभी दो सौ तैतालिस सीटों के परिणाम जारी कर दिए गए । भाजपा, जदयू ,हम और…

बिहार चुनाव: फिर आ गए वे सत्ता में                                                                                                    कुशलेन्द्र श्रीवास्तव
नई दिल्ली बिहार राजनीति

बिहार चुनाव: फिर आ गए वे सत्ता में कुशलेन्द्र श्रीवास्तव

चलो बिहार के चुनाव भी निपट गए । किसी से कुछ होना जाना है नहीं फालतू में लम्बा कुरता पहनकर भाषण देते रहते हैं । राजनीति तो भाजपा से सीखो ‘‘रेत से भी तेल’’ निकाल…

” दीपोत्सव”
कविता और कहानी

” दीपोत्सव”

रघु मिट्टी के खिलौने और बर्तन बनाने वाला एक कुम्हार था। उसके बनाए सामान की खूब बिक्री होती थी। हर साल दिवाली पर रघु दिए और खिलौने बनाता था। मिट्टी के दियों को जोड़कर अलग…

आती रहेंगी बहारें : कविता मल्होत्रा
Special Article

आती रहेंगी बहारें : कविता मल्होत्रा

किसी की वेदना है घर से पीछा छुड़ाने की किसी की व्यथा है अपने घर लौट जाने की ✍️ बीते साल ने कितना कुछ गँवा दिया ये एक नकारात्मक सोच है।बीते हुए लम्हों ने कितना…

ज़रूरतमंद परिवारों के साथ ही त्योहारों को मनाना चाहिए : सीमा  शर्मा
नई दिल्ली समाचार

ज़रूरतमंद परिवारों के साथ ही त्योहारों को मनाना चाहिए : सीमा शर्मा

लक्ष्मी बाई प्रशिक्षण संस्थान NGO द्वारा दीपावली के पावन अवसर पर दिव्यांग ,बुजुर्ग दम्पत्ति और विधवा महिलाओं (मायापुरी रेवाड़ी लाइन झुग्गी बस्ती) को उपहार में कम्बल ,जुराबें,टोपी मास्क,आटा,दवाई ,मूव,क्रीम ,टूथ ब्रश,कोलगेट और मिठाई वितरित की…

दीप जलाना
कविता और कहानी

दीप जलाना

दीप पर्व पर, एक काम यह करना सब हर हाल में। उनके नाम भी दीप जलाना जो बुझे कोरोनाकाल में।। स्वस्थ सुरक्षित रहे सभी जन, इसके हित बस काम किये। सभी चिकित्सक जुटे रहे बस…

वो जीत जो जीत सी ना लगे,              वो हार जो हार सी न लगे
Special Article

वो जीत जो जीत सी ना लगे, वो हार जो हार सी न लगे

सम्पादकीय : मनमोहन शर्मा 'शरण ' हमारे भारत की सुन्दरता–भव्यता यहां के त्यौहारों में देखते ही बनती है । हालांकि 2020 वर्ष कोरोना काल की भेंट चढ़ गया । जनता ने अपना दृष्टिकोण भी सूक्ष्म…