जी हाँ! पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया जिसको लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री  तथा दिल्ली के उपराज्यपाल दोनों ने आधी अधूरी जीत का दावा किया । न्यायालय तो सर्वोपरि है ही, उन्होंने निर्णय दिया है तो तर्कसंगत होता ही है । वर्ष 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव हुए । […]

Continus reading  

दोनों देशों के बीच हुए 15 करार नई दिल्ली। भारत और इंडोनेशिया ने अपने रक्षा सहयोग समझौते का नवीकरण करने के साथ साथ अंतरिक्ष, रेलवे, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य सहित विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग करने के 15 करारों पर हस्ताक्षर किए।  इंडोनेशिया के बाली और भारत के उत्तराखंड राज्यों को […]

Continus reading  

संग दिल पत्थरों से दिल लगा बैठा था। मासूम को अनजाने में जला बैठा था।।   उस पर अपना सब कुछ लगा बैठा था। इसीलिए तो, लूटा पीटा-सा बैठा था।।   मोहब्बत के समंदर के किनारे बैठा था। नैनों की कश्ती में खुद को डूबा बैठा था।।   दोस्तों, उसकी […]

Continus reading  

सद्भाव की पिचकारी में पुष्प -प्राग-मकरंद डालकर हो जाये प्रगाढ़ मित्रता,मधुर प्रेममय रंग डाल कर प्रेम तरंग में सराबोर हो,लाल गुलाल कमल सा कर दूँ गले मिलें अनुरागयुक्त हो,मोद प्रमोद की झोलियाँ भर दूँ जीवन के संयोगपूर्ण क्षण,हंसी ख़ुशी भरपूर ठिठोली भेदभाव तनाव भूल कर,आओ आज मनाएं होली -संपादक रवींद्र […]

Continus reading  

दुनिया में भगवान के दर्शन नहीं होते इसीलिए कहा जाता है भगवान ने मां बनाई है। ताकि मां के रुप में भगवान हमेशा आपके साथ में रह सके और आप हमेशा ईश्वर के दर्शन कर सकें। आइए जानते हैं ज्योतिष की नजर में मां का अर्थ – मानव जीवन का […]

Continus reading  

नरेन्द्र ( एक सामान्य नागरिक ) से नरेन्द्र मोदी ( प्रधान मन्त्री ) तक ” भारत के लोकप्रिय प्रधान मंत्री को प्रेषित हैं, एक सामान्य नागरिक के परामर्श -विचार। यदि इन पर दृष्टि डाल लें तो निश्चित होगा , भारतीय विकास में एक अद्भुत चमत्कार।। सर्वप्रथम देश की सीमाओं को […]

Continus reading  

प्रत्यंचा गांधार की मचलती हवाएं और /थिरकते इन्द्रधनुषी सपनों पर, अचानक वज्रपात करते/ हे / पितामह (भीष्म) तुझे तनिक भी हिचक न हुई । अपने जनक के अरमानों के लिए स्वयं की इच्छाओं का चिता जलाने वाला एक सामान्य अबला नारी के लिए क्यों इतना निर्मम, नि:क्षत्र हो गया ? […]

Continus reading  

इतनी लम्बी उम्र मिली है , पर जीने का वक़्त नहीं, रिश्तों की भरमार है पर रिश्तों का अस्तित्व नहीं , चेहरे पे मुस्कान सभी के, दिल में क्या है स्पष्ट नहीं, झूठी तारीफों के पुल पर , सच्चाई का वक्तव्य नहीं, जेब की दौलत लुटवाओ तो, यारों की है […]

Continus reading