उग्र किसान शासन परेशान , पांचवे दिन भी डटे किसान

उग्र किसान शासन परेशान , पांचवे दिन भी डटे किसान

नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पारित नए कृषि कानूनों के विरोध में  किसानों के आंदोलन को सोमवार 30 नवम्बर तक पांचवें दिन में प्रवेश कर गया। सुबह से ही प्रदर्शनकारियों ने  कृषि कानूनों के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी.

सरकार की प्राथमिकता शांति बनाये रखने की है जिसके लिए सुरक्षा बल की तैनाती भी सीमा पर बढ़ा दी गई जिससे  जारी विरोध प्रदर्शन के बीच शांति और सद्भाव को बरकरार रखा जाए।

सरकार द्वारा किसानों को बुराड़ी में विरोध करने की व्यवस्था की गयी इस आशय के साथ कि सीमाओं पर घेराबंदी बंद कर देंगे लेकिन  किसानों ने रविवार को केंद्र द्वारा दिल्ली के बुराड़ी मैदान में विरोध करने और सीमाओं पर नाकेबंदी हटाने के प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया था। किसानों ने कहा क्योंकि बातचीत के  प्रस्ताव में शर्त लगी है इसलिए  वे बुराड़ी नहीं जाएंगे।

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि  “हम इस स्थल को नहीं छोड़ेंगे। हम बुराड़ी नहीं जाएंगे। केंद्र को आगे आना चाहिए और किसानों की बात सुननी चाहिए।”

नई दिल्ली राजनीति समाचार