चीन का राक्षस कोविद -19

चीन का राक्षस कोविद -19

मार्टिन उमेद , देहरादून (उत्तराखंड)

चीन का राक्षस कोविद -19 कोरोना वायरस संक्रमण अब आज के हालत बढ़ते जा रहे है ! जिस कारण समस्त जगत व स्वयं भारत भी परेशान है ! जैसे की आप सभी को ज्ञात होगा की कोरोना वायरस की अभी तक देश विदेश में कहीं भी कोई दवाई या इंजेक्शन अभी तक बाजार में नहीं आया है ! जिस कारण यह बीमारी त्रासदी का रूप ले रही है !कई लोग मर चुके है ! और कई मौत के दरवाज़े पे खड़े है ! पर मेरा ही नहीं समस्त दुनियाँ का सवाल यहीं है? की क्या कोई इलाज इस वायरस का है? शायद अभी तक तो नहीं ! सरकार भी यहीं बात बार बार दोहरा रही है ! टीवी,रेडियो,एफ.ऍम के माध्यम से सभी राज्यों किसी सरकारे हर राज्य में एलान कर रही है कृपया उन नियमो को माने ! एक दूसरे से दुरी बनाये रखे ! घर से बाहर अगर किसी जरूरी काम से जाना हो तो मास्क हाथों मे दस्ताने जरूर पहने आँखों पर चश्मा लगाये,

सैनीटाइजर का प्रयोग जरूर करें सैनीटाइजर का प्रयोग तभी करें जहाँ पानी आसानी से मिल सके ! हाथों को बाहर से घर आकर 20 सेकेंड तक धोये !तभी हम कोरोना वायरस से बच सकते है !

सडक चौराहे पर पुलिस भी मुस्तैदी से कार्य को अंजाम दे रही है अस्पतालों मे डॉक्टर्स नर्स भी अपने कार्य भली भाँती कर रहे है ! सिर्फ इसलिए की कोरोना का राक्षस इस धरती से निकाल जाये ! जिनको आज ये झूठ और मज़ाक़ लग रहा है की कोई कोरोना नहीं है ! उनको एक बार अस्पताल जाना चाहिए जहाँ लोग कोरोना वायरस संक्रमण के कारण या मर रहे है, या मौत की नींद सोने वाले है या दवाई का इंतज़ार कर रहे है,और दवाई किसी देश के पास नहीं है !

दवाई आने में अभी छः सात महीने का इंतजार करना पड़ेगा ! मेरी सभी देश वासियों से यहीं हाथ जोड़ कर इल्तिज़ा बिनती निवेदन प्रार्थना है कृपया बाहर ना जाये ना निकले जब तक कोई जरूरी ना हो, सावधानिया बरते ! जिसके निम्न मुख्य कारण है !

कोरोना को लोगों द्वारा छिपाया जाना भी एक बड़ा कारण है कोरोना के लक्षण जिन लोगों को हो रहे है कुछ लोगों का सोचना है की अगर हमको जो लक्षण हो रहे है ! किसी के सामने आ गए तो शायद मुश्किल हो सकती है ! या इलाज़ में क्या क्या होगा अंजाम सोचकर लोग अब छिपने लगे है जोकि पूरी तौर पर गलत है ! ये संक्रमण किसी भी व्यक्ति से परिवार के अन्य सदस्यो को भी हो सकता है ! अन्यथा किसी की जान भी जा सकती है !और ऐसा करना कानूनन दंडनिया आपराध है!

ईपीसी की धारा 269 तब लगती है जब कोई लापरवाही का ऐसा काम करे, जिससे जीवन को ख़तरे में डालने वाली बीमारी का इंफेक्शन फैल सकता हो. इसके तहत छह महीने तक की सज़ा हो सकती है या जुर्माना लग सकता है, या दोनों से, दंडित किया जा सकता है !

आईपीसी की धारा 270 तब लगती है जब कोई ऐसा घातक काम करे जिससे जीवन को ख़तरे में डालने वाली बीमारी का इंफेक्शन फैल सकता हो. इसके तहत दो साल की सज़ा और जुर्माना या दोनों हो सकता है.!

सो आप सभी से निवेदन है की इस बीमारी से लड़ने के लिए हमको सबको कमर कसनी होंगी, और छिपाना नहीं होगा तभी हम अपने देश को कोरोना वायरस से आजाद कर सकते है

लोगों को कोरोना के विषय मे जानकारी नहीं होना :-

कोविड-19 वायरस, अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है. संक्रमित हुए ज़्यादातर लोगों को थोड़े से लेकर मध्यम लक्षण तक की बीमारी होती है और वे अस्पताल में भर्ती हुए बिना ठीक हो जाते हैं.

ज़्यादा सामान्य लक्षण:

================

1)बुखार

2)सूखी खांसी

3)थकान

कम सामान्य लक्षण:

=================

1)खुजली और दर्द

2)गले में खराश

3)दस्त

4)आँख आना

5)सिरदर्द

6)स्वाद या गंध का अनुभव नहीं होना

7)त्वचा पर खरोंच या उंगलियों या पैर की उंगलियों का रंग बिगड़ना

गंभीर लक्षण:

=============

1)सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ़

2)सीने में दर्द या दबाव

3)बोल या चल न सकना

यदि आप में गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं. अपने डॉक्टर के पास या अस्पताल में जाने से पहले हमेशा फ़ोन करके जाएं.

जो लोग स्वस्थ्य हैं और उन्हें वायरस के थोड़े-बहुत लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो उन्हें घर पर ही कोरिनटिन होने की जरूरत है अपने आप को पूरी तरह स्वस्थ रखने की कोशिश करनी चाहिए.

व आपस मे घर के अन्य सदस्यो से अपने आप को दूर रखे, जिससे किसी अन्य पारिवारिक सदस्य को न हो !

वायरस से संक्रमित होने के बाद, इसके लक्षण दिखाई देने में आम तौर पर 5-6 दिन लगते हैं. हालांकि, कुछ मामलों में लक्षण दिखने में 14 दिन भी लग सकते हैं.

सो तब तक घरों मे रहे, बाहर ना निकले !

लोगों को आगाह करें ! की बाहर बिना मास्क के ना निकले, अन्यथा अंजाम बुरा हो सकता है, आप अपने बीमारी के खुद जिम्मेवार होंगे !कोरोना वायरस के कारण देश में लगे लॉकडाउन की वजह से बेरोजगारी दर में उछाल आया है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) ने देश में बेरोजगारी पर सर्वे रिपोर्ट जारी किया है। इस सर्वे रिपोर्ट के अनुसार तीन मई को समाप्त हुए सप्ताह में देश में बेरोजगारी दर बढ़कर 27.1 फीसदी पर पहुंच गई है।

इससे पहले जारी सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल 2020 में देश में बेरोजगारी दर बढ़कर 23.5 फीसदी पर पहुंच गई थी। सिर्फ अप्रैल महीने में बेरोजगारी दर में 14.8 फीसदी का इजाफा हुआ था। मार्च महीने के मुकाबले अप्रैल में बेरोजगारी दर में तेज बढ़ोतरी हुई थी।

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने लॉकडाउन का एलान किया। इसके चलते 130 करोड़ की आबादी वाले देश में कई उद्यम बंद हो गए हैं। बेरोजगारी की दर शहरी क्षेत्रों में सबसे अधिक बढ़ी है। कोविड-19 के मामलों की वजह से रेड जोन वाले क्षेत्रों में यह दर 29.22 प्रतिशत है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों  में 26.69 प्रतिशत है।

कोरोना वायरस के कारण बेरोजगार लोगों की संख्या बढ़ने लगी है !

अप्रैल के अंत तक, दक्षिण भारत के पुदुचेरी में सबसे अधिक 75.8 प्रतिशत बेरोजगारी थी, उसके बाद पड़ोसी राज्य तमिलनाडु में 49.8 प्रतिशत, झारखंड में 47.1 फीसदी और बिहार में यह आंकड़ा 46.6 प्रतिशत था। महाराष्ट्र की बेरोजगारी दर सीएमआईई द्वारा 20.9 प्रतिशत आंकी गई थी, जबकि हरियाणा में 43.2 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में 21.5 प्रतिशत और कर्नाटक में 29.8 प्रतिशत थी।

सीएमआईई C.M.I.E.E ने अनुमान लगाया गया है कि अप्रैल में दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों और छोटे व्यवसायी सबसे ज्यादा बेरोजगार हुए हैं। सर्वे के अनुसार 12 करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी गंवानी पड़ी है। इनमें फेरीवाले, सड़क के किनारे सामान  बेचने वाले, निर्माण उद्योग फैक्ट्रीयों में काम करने वाले कर्मचारी और कई लोग हैं जो रिक्शा को ठेला चलकर गुजारा करने वाले भी अब बेरोजगारी के कारण अब नौकरी ढूंढने के लिए इधर उधर भाग दौड़ कर रहे है ! जिसकी वजह से भी लोगों मे कोरोना वायरस फ़ैल रहा है !

सो जब तक हम घरो पर नहीं रहेंगे ये कोरोना हमको सताता रहेगा ! और हम सब को एक जुट होकर कोरोना को देश से भगाना पड़ेगा !ताकि देश फिर से नयी तरक्की की ओर बढ़ सके फिर कोई वायरस का संक्रमण हमको तंग न कर सके !

तब तक स्वस्थ रहे मुस्कुराते रहे ! हम आपके उज्जवल भविष्य की कामना करते है !

साहित्यकार लेखक मार्टिन उमेद

Special Article सभी रचनायें