‘सबका विश्वास’ की ओर सशक्त कदम  तीन तलाक बिल हुआ पास

‘सबका विश्वास’ की ओर सशक्त कदम तीन तलाक बिल हुआ पास

मनमोहन शर्मा ‘शरण’ (संपादक)

कभी कभी हम देखते,सुनते और पढ़ते हैं कि ज्योतिषीय गणना / आंकलन के अनुसार आज का दिन बहुत पावन है क्योंकि आज ग्रह–नक्षत्रें का एक अद्भुत एवं सुखद संयोग बन रहा है । ज्योतिष को मानने वाले उत्साहित हो जाते हैं, विशेषकर वे जिनकी राशि में वह संयोग लाभकारी सिद्ध होने की संभावना होती है ।
जी हाँ मित्रो! सर्वप्रथम आप सभी को सपरिवार भाई–बहन के पावन पर्व रक्षाबंधन और आजादी का महापर्व स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) की अनन्त शुभकामनाएं । कितना सुखद संयोग है कि इस बार दोनों पर्व एक ही दिन हैं । आज का दिन भारत की मुस्लिम महिलाओं के लिए बड़ा अनुपम अहसास और वास्तविक आजादी का संदेश लेकर आया । जैसे ही मीडिया में यह खबर प्रसारित हुई कि तीन तलाक बिल पारित हो गया है और महामहिम राष्ट्रपति की अनुमति के बाद यह कानून का रूप ले लेगा । इसके तुरंत बाद से ही देश की मुस्लिम महिलाओं में खुशी का संचार हो गया और कहीं मिठाईयां बंटने लगीं । कहीं एक दूसरे को गले लगकर बधाइयाँ दी जाने लगीं ।
केवल मुस्लिम बहनें ही नहीं कोई भी भारतीय नागरिक इस बात को अनुभव कर सकता है कि एक तरफ भारतीय संस्कृति–संस्कार ऐसे हैं जहां विवाह को पवित्र् बंधन माना जाता है जहां इस पवित्र्–पाक रिश्ते को जन्मों तक निभाने का संदेश होता है, दूसरी तरफ हर समय एक डर का साया कि मात्र् ‘तलाक–तलाक–तलाक’ 3 बार बोलते ही एक पल में बहन के पैरों तले जमीन सिखक जाती और भविष्य के प्रति आशंकित रहने को विवश हो जाती थी । इसके अतिरिक्त और कोई चारा ही नहीं दिखाई देता था । यह बिल पास कराकर सरकार ने ‘रक्षा बंधन’ पर अति विशिष्ट उपहार दिया है भयमुक्त जीवन जीने का सुगम मार्ग प्रशस्त किया है । हम इसका स्वागत करते हैं और अब वे कह पाएंगे कि ‘सबका विश्वास’ नया मंत्र् जो मोदी जी ने अपने नारे में इस बार जोड़ा था , ‘सबका साथ – सबका विकास – सबका विश्वास’ इस ओर उन्होंने सशक्त कदम बढ़ाया है ।

Special Article कविता और कहानी