आओ अपने सपनों को एक नया आयाम दें।

आओ अपने सपनों को एक नया आयाम दें।

आओ अपने सपनों को एक नया आयाम दें।

उजले रंग दें इक नई पहचान दें।

बदल रही है दुनिया बड़ी तेजी से

तुम भी ऐसे बदलो कि सब अच्छा कहें।

आओ अपने सपनों को=======

अच्छे संस्कारों से शुद्ध करलें आत्मा को

ईश्वर पर एकाग्रता से ध्यान दें।

आप जब होंगे पवित्र और प्यार होगा दिल में

आपका सम्मान होगा हर महफिल में।

आप जिस तरफ से गुजरेंगे कलियां

मुस्करा देंगी

फूल खिलखिला पड़ेंगे सुगंधित हवा चलेगी।

पेड़ पौधे कोशिश करेंगे लें आपको

आगोश में।

आओ अपने सपनों को=======

छोटे छोटे बच्चों के बीच अगर तुम

जाओगे

उनकी खिलखिलाहट में तुम परमात्मा को पाओगे।

वो भी तुमसे प्यार करेंगे अपनी

मासूमियत से।

आओ अपने सपनों को एक नया आयाम दें।

हीरेंद्र चौधरी

कविता और कहानी