नववर्ष की बधाई

नववर्ष की बधाई

v

नये नये उमंग हैं

नये नये तरंग

नववर्ष की नवकिरण में

हर तरफ लाये उमंग ही उमंग।

अम्बर से आई किरण

लेकर प्रकाश की लालिमा

पीछे छुट गया काली रात

और उसकी काली कलिमा।

बीत गये एक वर्ष

खट्टे मीठे अनुभव

लाएगी आशा का संदेश

ऐसा सोचे हर मानव।

बनी रहे आचार विचार

ऐसा रखना तुम व्यवहार

लंबी होती नहीं आयु उसकी

जो दिल में रखे खोट विचार।

मिलजुल कर रहना सभी

कभी न करना भेद भाव

नववर्ष पर आशुतोष का

सप्रेम बधाई हो स्वीकार।

                              आशुतोष

                            पटना बिहार

कविता और कहानी