नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

अलविदा दिसम्बर तेरे लिए ,

स्वागत है अब जनवरी का ।

कुछ खट्टा  मीठा सा अनुभव ,

तुम से मिल गया  जिंदगी का।

चेहरे कुछ दिखते नए नए,

कुछ अपने लगते बिछड़ गए ।

यह मंच अजनबी सा लगता ,

कुछ साथ चले कुछ पिछड़ गये ।

स्वीकार हृदय से अब कर लो ,

शाश्वत प्रकृति का परिवर्तन ।

जो बीत गयी उसको छोड़ो ,

जीवन में भर लो नव नर्तन ।

नव वर्ष को उत्सव से भर दें

और प्यार से अभ्यागत कर लें ।

आने वाले नवागन्तुक को,

स्वागत में शुभ प्रभात कह दें ।

सब शिकवे गिले भूल कर हम,

जा रहे को धन्यवाद कह दें ।

सब मिल कर शुभ कामना करें ,

नव वर्ष का हम स्वागत कर लें ।।

        अर्चना द्विवेदी

    अयोध्या उत्तर प्रदेश

कविता और कहानी