लॉक है पर डाउन नहीं

लॉक है पर डाउन नहीं

कोरोना महामारी
विश्व पीड़ित
हाहाकार चहुँ और
एक से अनेक ,
कब

कब हज़ार से लाख हुए
पता ही नहीं चला
किसकी चाल , फिर देखेंगे
पहले कोरोना से दो चार कर लें
भारत भी अछूता नहीं अब
सभी भयभीत इससे
२१ दिन का लॉक डाउन
पूर्ण होने को है
अनेकता में एकता पहचान हमारी
मदद को उठे हाथ
पीएम केयर में सहयोग
क्या बड़ा, क्या छोटा , कर्मचारी,

व्यापारी, अभिनेता हो या नेता

सभी एकजुट
कोरोना को रोना होगा
डॉक्टर, नर्स, सहयोगी , पुलिस कर्मी सभी को नमन,
धन्यवाद , साधुवाद
हैं साथ आपके हम भी
लॉक है हम पर डाउन नहीं

मनमोहन शर्मा शरण

कविता और कहानी