दिल्ली का दर्द , इस्लामिक धरना, आतंक और भय

दिल्ली का दर्द , इस्लामिक धरना, आतंक और भय

दिल्ली के शाहीन बाग में दिल्ली के कौम  ने दंगाई सपोलो को दूध पिलाया और आज  उन्हीं सपोलो ने जहरीले सांप के रूप में  दिल्लीवालो को उन्हीं के घर में डसना शुरू किया है ।   ताहिर हुसैन , शर्जिल इस्लाम अमांतुल्लाह जैसे साप लोगो को डस रहे  , जहर से जल रही दिल्ली । कौम कोई भी हो मरते निर्दोष लोग ही है । लगभग 3 दर्जन मौतों का जिम्म्मेदार कौन ? दिल्ली मे 3 दिन तक हिंसा का तांडव होता रहा । हिंसा राजनीति की आड़ मे होती रही । लोगों के घर जलते रहे लोग मरते रहे । लोग लापता है किसी को कोई खबर नही कहाँ गए उनके घर के चिराग ? पुलिस का खुफिया तन्त्र फैल कर गद्दार   शाहरुख को ढूंढ रही जिसने पिस्टल तानी गोली चलाई   । उपद्रवी गोली चला रहे है पैट्रोल बंम फेंक रहे और पुलिस के जवान डंडे लेकर खड़े है पुलिस पर बन्दूक तान दी जाए तो डंडा क्या करेगा । चारो तरफ आगजनी पुलिस के अलाधिकारी गुमसुम आखिर किसके इन्तजार में ।पुलिस की कमर पर लगी बन्दूक आगजनी करने वालों के पैर पर फ़ायर कर दंगाईयों को पकड़ सकते थे खुद की रक्षा के साथ जनता की रक्षा कर सकते थे ।मगर नही, ऐसे मे दिल्ली  के  मिनिस्टर का कुछ पता नही जबकि कुछ दिन पहले रातदिन दिल्ली के गलियारों मे दुहाई दे रहे थे कि दिल्ली वालो हम ही है आपके रेह्नुमा है । दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल  की महानता देखिए दिल्ली जल रही है और विधानसभा सत्र चला रखा है क्या इसे स्थगित नही किया जा सकता था ? अब जब दिल्ली के दंगों मे बेकसुरों की जान चली गई तो लगे दरियादिली दिखाने में लगे है । आप पार्टी के नेता और पार्षद ताहिर हुसैन पर आगजनी का आरोप है दंगों मे शामिल होने वाली वीडियों वायरल हो रही बेशरमी देखिए पार्टी उन पर कार्यवाही नही करेगी तो कौन करेगा ? ऐसे नेता को पार्टी से क्यो नही तुरंत निष्कासित किया गया ? किसका इंतजार किया गया ? पुलिस कार्यवाही अमांतुल्लह पर क्यों नहीं हुई ? वारिश पठान गिरफ्तार क्यो नहीं हुआ बाद में  कपिल मिश्रा  को गिरफ्तार करते पर नहीं पहले कपिल को पकड़ो , अरे क्यो पकड़ो ? क्या गुनाह है जो पत्थरबाजी और रोड़बंद के खिलाफ के खिलाफ उसने आवाज उठा दी तो ।  कांग्रेसी पार्टी मे महान बना रहे राहुल को  उनके खिलाफ कार्यवाही की बजाए उनको महान बताया जा रहा है ।कांग्रेस और आप पार्टी होम मिनिस्टर का इस्तीफा मांग रही है तो बीजेपी कांग्रेस और आप को कुसूरवार ठहरा रही है क्या राजनीति है बेशर्मी की हद हो गई 35 से ज्यादा लोगों की जान चली गई और इन्हें राजनीति की पड़ी है । कांग्रेस यह न भुले कि 84 के सिख दंगों मे अभी तक कांग्रेस की क्लीन चिट नही मिली है अब तो दिल्ली दंगों मे  आप पार्टी के हाथ भी रंग गए है किस मुह से लोगो के विकास की बात करते है ।आज पहली जरुरत है इन दंगों से जो दर्द मिला है दिल्ली के लोगों को उसे शांति बहाल कर दुर किया जाए । दंगों मे जिन परिवारों मे जान माल की हानि हुई है उसकी भरपाई सरकार तुरंत करे । दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने ये साफ कर दिया है कि हम दिल्ली में 1984 नहीं होने देंगे।देखा जाए तो हमारा देश किस राह पर चल रहा है। बीते कुछ दिनों से दिल्ली में सड़कों पर दंगे हो रहे है । लोग परेशान हो रहे है, करोड़ों का बिजनेस खराब हो रहा है, लोग मर रहे है, करोड़ों की संपत्ति जल का राख हो गई लेकिन उन लोगो पर अभी तक कोई कारवाही क्यो नही हो रही है जिन्होंने ये भड़काऊ भाषण दिए और कुछ तो दंगो में पूर्णतय लिप्त है ये नाम किसी से छुपी नहीं है डेली अख़बारों की हेडलाइन बनी हुई है, न्यूज में बताया जा रहा है और सोशल मीडिया पर वायरल है पर पार्टी अभी भी उन्हें दोषी नहीं मान रही है क्या आज राजनीति इतनी गन्दी हो गई है कि वो दो चेहरों के साथ आ रही है एक चहरा वो जो चुनाव से पहले हाथ जोड़ कर दिखाई देता है और एक चेहरा अब जब एक पोजिशन पाने के बाद दिखाई देता है कि हमे अपनी राजनीति करनी है देश और देश के लोग जाए तेल लेने। ये ही गन्दी राजनीति की परिभाषा है क्यो नही हम सोचते उन लोगो के बारे में जिनके घर का चिराग बुझ गया है इस हिंसा में शिकार हो गए है और अपने घर से बेघर हो गए है अब कहा गए वो सफेदपोश जो हाथ जोड़ कर आए थे। जनता को इन्हे पहचाना चाहिए। आज फ्री कुछ नहीं है ये एक लालच है जो हम चूहे को देते है रोटी का टुकड़ा पिंजरे में लगा कर हमे उसमे नहीं फसना है क्योंकि हम इंसान है चूहे नहीं।क्यो नही एक्शन ले रहो सरकार उन लोगो के खिलाफ जो जनता को बहका रही है बरगला रही है। जो हमारे देश में देश की खिलाफत कर रहा है वो मेरी नजर में पूर्णतय दोषी है और सरकार को उस के खिलाफ तुरंत एक्शन लेना चाहिए और जो ये लोग सड़कों को अपने बाप की जागीर समझ रहे है उनके खिलाफ सख्त से सख्त कानून का प्रावधान होना चाहिए। हमे नहीं चाहिए ये शाहिनबाग  जो दिल्ली कि आवो हवा को खराब कर रहा है। लेडीज और बच्चे सड़कों पर पूरी ठंड में दिन रात बैठे हुए है क्या लालच है उनको केवल कुछ लोगो के बहकाने में और धरम की राजनीति के शिकार है। हमे चाहिए एक अमन पसंद देश और इसकी स्टार्टिंग आप से होती है खुश रहो प्यार से रहो ये देश हमारा है शांति बनाए रहो , अफवाह ना तो फैलाव ना इन पर ध्यान दो। घायलो को तुरंत स्वास्थ्य लाभ पहुंचाए ।—- पंकज कुमार मिश्रा जौनपुरी 8808113709

सभी रचनायें